फोटो पर कविता प्रतियोगिता :- शीर्षक – “सुनों!!”

!सुनों!
सुनो! ये जो दरिद्र मजदूर हैं, वास्तविकता में यही तो मजबूर हैं|
क्रूरता की पराकाष्ठा तो देखो, अब तक ये कुटुंब से दूर है|

भूतल से नभतल तक यह जो हाहाकार मचा,
प्रकृति ने शुरू अपना तांडव जो किया,
मनुष्य के मुँह पर जोरदार तमाचा दिया,
यह जो प्रकृति का बरसा है कहर,
हकीकत में मनुष्य द्वारा ही दिया गया है जहर|
सुनो! ये जो दरिद्र मजदूर हैं, वास्तविकता में यही तो मजबूर हैं|

प्रश्न यह मन में उठता है..
क्यों हर परिस्थिति में मजदूर ही पिसता है,
समाजसेवा के यहाँ पर्चे फटने लगे,
पर डोनों में तो करोना ही बटने लगे,
गाँव पहुँचने की मन में लिए आस,
पहुँच गए रेल गाड़ी के पास|
सुनो! ये जो दरिद्र मजदूर हैं, वास्तविकता में यही तो मजबूर हैं|

कोरोना का राक्षस बन बैठा सबका भक्षक,
उल्लास न कहीं दिखता ,मातम ही पैर पसारे टिकता,
इस महामारी के आगे सब अस्त्र-शस्त्र पड़े धराशाही,
न रहा अब कोई किसी का भाई..
इन्हें तो बस गाँव की याद आई..
किस बात का रोना गाते हो, तुम ने जो बोया वही तो पाते हो|
सुनो! ये जो दरिद्र मजदूर हैं, वास्तविकता में यही तो मजबूर हैं|

अस्तित्व अपना बचाने को, घर वापस अपने जाने को|
पोटली के साथ मुँह को बाँधे बैठे हैं खिड़की के सहारे,
आँखों के साथ हाथ भी बाहर झाँके, गाँव-गाँव ही अब पुकारे|
सुनो! ये जो दरिद्र मजदूर है, वास्तविकता में यही तो मजबूर हैं|
क्रूरता की पराकाष्ठा तो देखो अब तक ये कुटुंब से दूर हैं|

स्वरचित कविता
रीमा बिंदल

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

कोरोनवायरस -२०१९” -२

कोरोनवायरस -२०१९” -२ —————————- कोरोनावायरस एक संक्रामक बीमारी है| इसके इलाज की खोज में अभी संपूर्ण देश के वैज्ञानिक खोज में लगे हैं | बीमारी…

Responses

  1. आपने दोनों को डोनों लिखा है तथा( …।) इन दोनों पूर्ण विराम का प्रयोग एक साथ किया है,प्रतियोगिता में गुणवत्ता देखी जाती है।(….)अंग्रेजी का पूर्ण विराम है जिसका प्रयोग लोग भ्रम वश हिन्दी में करते हैं ।

    1. महाशय ,
      *आपको अवगत कराना चाहूँगी कि हमारे क्षेत्र (उत्तर प्रदेश) में “दोनों” को “डोनों” ही कहा जाता है| (लंगर अथवा मंदिर में प्रसाद के साथ में बटने वाली पत्तों से बनी कटोरी)
      *(……..) का प्रयोग मैंने अपनी बात को जारी रखने हेतु संकेत रूप में दिया है|
      मैं हिंदी की अध्यापिका हूँ, मुझे विराम चिह्नों का प्रयोग करना कुछ हद तक आता है|🙏
      आपकी प्रतिक्रिया के लिए धन्यवाद|🙏🙏
      मैंने आपकी प्रतिक्रिया को सकारात्मक रूप से लिया है, इसे अन्यथा न लीजिएगा|🙏

  2. धन्यवाद 🙏🙏😊 देवेश जी, पूनम जी और प्रिया जी
    आपके प्रोत्साहन पूर्ण शब्दों से मनोबल बढ़ा|🙏🙏

New Report

Close