मज़हब न जात पात का अब फ़ासला रहे

मज़हब न जात पात का अब फ़ासला रहे।
मैं रहूँ न रहूँ मगर ये काफ़िला रहे।।

हिन्दू हो मुस्लिम हो सिख हो ईसाई।
सबके बीच प्यार का ये सिलसिला रहे।।

करे न गुमान कोई अपनी बुलंदी पर।
जमीं के साथ कोई ऐसा रिश्ता रहे।।

कोई ऐसा इंसान मेरी जिंदगी में भी हो।
जो मुझको मेरी गलतियाँ भी बताता रहे।।

सीखा दे वो सबको नेकी इंसानियत का धर्म।
“गौरव” इस जहान में ऐसा कोई मसीहा रहे।।
‪#‎_gaurav‬


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Sridhar - May 19, 2016, 3:56 pm

    wah wah !

  2. Panna - May 19, 2016, 6:55 pm

    Umda!!

Leave a Reply