“महबूब”

शबनम से भीगे लब हैं, और सुर्खरू से रुख़सार;

आवाज़ में खनक और, बदन महका हुआ सा है!

.

इक झूलती सी लट है, लब चूमने को बेताब;

पलकें झुकी हया से, और लहजा ख़फ़ा सा है!

.

मासूमियत है आँखों में, गहराई भी, तूफ़ान भी;

ये भी इक समन्दर है, ज़रा ठहरा हुआ सा है!

.

बेमिसाल सा हुस्न है, और अदाएँ हैं लाजवाब;

जैसे ख़्वाबों में कोई ‘अक्स’, उभरा हुआ सा है!

.

जाने वालों ज़रा सम्हल के, उनके सामने जाना;

मेरे महबूब के चेहरे से, नक़ाब सरका हुआ सा है!!

ღღ__अक्स__ღღ

.

 

Related Articles

आज़ाद हिंद

सम्पूर्ण ब्रहमण्ड भीतर विराजत  ! अनेक खंड , चंद्रमा तरेगन  !! सूर्य व अनेक उपागम् , ! किंतु मुख्य नॅव खण्डो  !!   मे पृथ्वी…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close