मैखाने

बात करने के कुछ इस तरह लोग बहाने ढूंढते हैं,
के दिल में उतरने के लिए मानो तैखाने ढूंढते हैं।।

भटकते हैं जो दर बदर नशे में घर अपना छोड़के,
वो दूसरों की आँखों के प्यालों में मैखाने ढूँढते हैं।।

राही अंजाना


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

17 Comments

  1. Poonam singh - November 20, 2019, 8:00 pm

    Wah

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 20, 2019, 8:49 pm

    Nice

  3. Ashmita Sinha - November 20, 2019, 9:00 pm

    Nice

  4. nitu kandera - November 20, 2019, 10:15 pm

    Nice

  5. देवेश साखरे 'देव' - November 21, 2019, 12:08 am

    वाह

  6. nitu kandera - November 22, 2019, 12:25 am

    वाह

  7. Abhishek kumar - November 23, 2019, 10:21 pm

    अच्छा

  8. Neha - November 24, 2019, 7:52 pm

    Wah

  9. Pragya Shukla - February 29, 2020, 5:23 pm

    Good

Leave a Reply