यह कैसी जिंदगी है

यह कैसी जिंदगी है
जो अपनी होकर भी परायी है
भीड तो है चारो तरफ़
फिर भी हर तरफ़ फैली तन्हाई है

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

ऐसा क्यों है

चारो दिशाओं में छाया इतना कुहा सा क्यों है यहाँ जर्रे जर्रे में बिखरा इतना धुआँ सा क्यों है शहर के चप्पे चप्पे पर तैनात…

Responses

  1. True words!! 🙂 Life is ours, but our thoughts, actions and emotions are always controlled by others.. And you will find people every where, but there will be silence as no one is willing to stand for their \’own\’ life.

New Report

Close