राक्षस

कथाओं में जिन राक्षसों का
जिक्र होता है, वे कोई
राक्षस जाति नहीं थी
बल्कि ये वे दरिन्दे ही थे
जो आज भी अक्सर
सरे राह बदतमीजी करते हैं
छेड़ाखानी करते हैं,
नारियों पर कुदृष्टि रखते हैं,
बेटियों से जबरदस्ती करते हैं,
अपहरण करते हैं,
कुकृत्य करते हैं,
हवस की खातिर मार देते हैं,
वे राक्षस हैं दरिन्दे हैं जो
मानवता को शर्मसार करते हैं,
इनको पहचानना होगा
इनसे सावधान रहना होगा
सतर्क होकर इनसे
मानवता को बचाना होगा।

Related Articles

अपहरण

” अपहरण “हाथों में तख्ती, गाड़ी पर लाउडस्पीकर, हट्टे -कट्टे, मोटे -पतले, नर- नारी, नौजवानों- बूढ़े लोगों  की भीड़, कुछ पैदल और कुछ दो पहिया वाहन…

ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो बहसी-दरिन्दें हैं ।

ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो बहसी-दरिन्दें हैं । अगर इसे अभी छोड़ डालोगे. तो आगे इसका परिणाम बुरा भुगतोगे ।। ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

  1. बहुत सटीक अभिव्यक्ति है सतीश जी ।कविता के माध्यम से आपने जो बात कही है, अक्सर मै भी ऐसा ही सोचा करती हूं। कथाओं के राक्षसों का ही कदाचित पुनर्जन्म हुआ है,इन्हे पहचानना होगा और इनके किए की सज़ा भी दिलवानी होगी ।अपने घृणित कृत्य के लिए ये राक्षस किसी की पूरी ज़िन्दगी कैसे छीन सकते हैं ।शानदार सोच और शानदार प्रस्तुति
    सैल्यूट सर 🙋 ।

    1. इस काबिलेतारीफ समीक्षा हेतु आपको बहुत बहुत धन्यवाद। वास्तव में राक्षस ही आज दरिंदों के रूप में उभरते हैं, वे समाज के लिए खतरा हैं। कविता की इतनी सुंदर व्याख्या हेतु सादर आभार , समीक्षा में सक्षम लेखनी की प्रखरता को अभिवादन

New Report

Close