रितुराज के आवन पे

रितुराज वसंत के आवन पे
बसुधा ने कण कण सजा लिया है ।
शबनम की बारिश से धरणीधर
और तृण तरुवर सब नहा लिया है।।
पत्र पुराने त्याग दिए बृक्ष सब
नव किसलय तन चढ़ा लिया है।
कुछ रक्तिम कुछ हरे -हरे
बगिया ने नव परिधान सजा लिया है।।
पहन पुष्पों का आभूषण
कुदरर ने निज अंगों को सजा लिया है।
फूलों ने भी कसर न छोड़ी
खुद को खुशबू से महका लिया है।।
पत्र -पुष्प से सज गई धरती
पतंगों से नीलाम्बर भी सजा लिया है।
भ्रमर तितलियाँ कोयल संग
“विनयचंद “ने भी कुछ गुनगुना लिया है।।

Related Articles

Rita arora jai hind

वसंत ऋतु पर मेरी ये कविता ?? रीता जयहिंद ?? आया वसंत देखो आया वसंत । खुशियों की सौगात लाया वसंत ।। पेड़ पौधे पशु…

Responses

New Report

Close