February

जाते हुये जनवरी ने जख्म फिर हरे कर दिये।

फ़रवरी प्रेम माह ने फिर दामन उम्मीद से भर दिये।।

Related Articles

जय शिवशंकर गौरीशंकर

जय शिवशंकर गौरीशंकर पार्वतीशिव हरे-हरे (2) रामसखा प्रभु राम के स्वामी, विष्णुवल्लभ भोलेनाथ । जय शिवशंकर गौरीशंकर, पार्वतीशिव हरे-हरे (2) ।।1।। कैलाशपति प्रभु औढ़रदानी, नीलकंठ…

Responses

New Report

Close