सच

सच को आईना ना दिखाईए,
झूठ को दो खदेड़ भगाय।
मित्र बन्धू को दो तुम जगाए,
कुछ दान पुण्य करके बन जाये सहाय।।

महेश गुप्ता जौनपुरी

Related Articles

Responses

New Report

Close