सफलता

सफलता
———–
बुझ रहे हो दीयें सारे, ओट कर.. जलाए रखना।

जल विहीन भूमि से भी, तुम….
निकाल लोगे जल..
विश्वास को बनाए रखना।

अंधकार व्याप्त हो.. सूर्य की तलाश हो,
मार्ग जुगनूओं की रोशनी से तुम सजाए रखना।

मुश्किलें मिले अगर, डर के लौटना न तुम..
आत्मविश्वास की चमक चेहरे पर खिलाए रखना।

मान को बनाए रखना,
सम्मान को बचाए रखना।
रच दो इतिहास , ऐसा परचम फहराये रखना

ज्ञान की मशाल से रोशनी फैलाएं रखना।
जीत लेना दुनिया को,
ह्रदय सदा विशाल रखना।

अस्थियां जलाकर अपनी वज्र का निर्माण कर,
सूर्य की तपिश को भीनी चांदनी बनाए रखना।

तप कर… चोट खाकर ही
निखरता है सोना खरा,
उस तपन की शुद्धता को व्यक्तित्व में समाये रखना।

स्वेद की बूंदों को …ललाट पर सजाए रखना
कर्म करके भाग्य रेखा को पुनः चमकाए रखना।
श्रम की चमक घोल अपने कर्म में मिलाएं रखना।

हौसला विमान हो सपनों की उड़ान हो,
रोक पाए न आंधियां ,
ऐसा जज्बा -ए तूफान हो।
जीत की ललक को .. अपनी आंखों में सजाए रखना।

पर्वतों को तुम झुका कर रास्ता अपना बना लो,
गति कहीं अवरुद्ध ना हो मंजिले ‘जिद ‘तुम बना लो।
लक्ष्य निरंतर भेद कर,
खुद को अलभ्य बनाये रखना।

निमिषा सिंघल


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मुस्कुराना

वह बेटी बन कर आई है

चिंता से चिता तक

उदास खिलौना : बाल कबिता

1 Comment

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 7, 2021, 9:24 pm

    अतिसुंदर भाव

Leave a Reply