सोचता हूँ मैं

सोचता हूँ मैं कि कब आयेगी बहार
बगिया में?
कब महकेंगे सुगंधित सुमन
दिल के आँगन में?

Related Articles

Responses

New Report

Close