स्वतंत्रता का नव विहान

स्वतंत्रता का नव विहान
गाओ मंगल गान!
लहराते ध्वज को देखो-
स्वाभिमान भरे मस्तक ऊँचे!
याद करो वीरों की कुर्बानी!
ज़ुल्म भरे व्यथा की कहानी।
चहुदिश अरुण रश्मि छायी-
धरती पर स्वर्ण-आभा आई !
बरस रहे सुधा रस राग रंग
जनता में खुशियों की पुरवाई!
गगन-धरा-अनिल-क्षितिज
प्रदिप्त हो रहे मंगल दीप!
त्याग-बलिदान की ज्योति जले
कभी न बुझ पाए ये अमर दीप !
बँटवारे का दर्द समेटे
आज भेद भाव सब छूटे।
जननी नव दुल्हन सी सजी !
हर रही क्लेश-विषाद सब।
अत्याचार का ह्वास हुआ-
जनतंत्र की जीत हुई!
विश्वमंडल की नयी आभा
भारतवर्ष बन गया आज !
महावीर-बुद्ध के संदेशों को

फैला रहे हम विश्व में आज!
शान्ति के अग्रदूत बन
बढ़ा रहे भारत की शान।
मेरा भारत महान !
गाओ मंगल गान-
मेरा भारत महान !!

-शीला तिवारी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

3 Comments

  1. Sridhar - August 11, 2016, 6:39 pm

    bahut badia kavya

  2. sukhmangal singh - November 4, 2016, 7:42 am

    धन्यवाद! शीला तिवारी जी

  3. Kanchan Dwivedi - March 20, 2020, 9:58 pm

    Nice

Leave a Reply