हाँ रहने दो

भ्रांति की अविरल धारा बहने दो,

जिजीविषा काया की रहने दो,

खंडित जीवन की अभिलाषा,

जो कुछ शेष है  सहने. दो,

हाँ, रहने दो,कुंठित मन की कामना,

हास-परिहास की भावना,

जीवन चक्र की सतत प्रताड़ना,

मृगतृषित  मन को सहने दो,

हाँ, रहने दो ,इस क्षण में,

जीने  की  लालसा,

विचलित मन की साधना,

आकांक्षाअो  की आराधना,

जो कुछ शेष है,रहने दो,

हाँ, रहने दो, भ्रांति की,

अविरल धारा बहने दो ।।

https://ritusoni70ritusoni70.wordpress.com/2016/07/18/

Related Articles

जागो जनता जनार्दन

http://pravaaah.blogspot.in/2016/11/blog-post_75.htmlसमाज आज एक छल तंत्र की ओर बढ़ रहा है प्रजातंत्र खत्म हुआ। अराजकता बढ़ रही, बुद्धिजीवी मौन है या चर्चारत हे कृष्ण फिर से…

परिहास बनी

परिहास बनी पल दो पल के, उन्मादित पलों को, प्रेम समझ परिहास बनी, कोमल एहसासों को अपने, पाषाण में तराश  रही, क्षणभंगुर जगत में, अमरता…

स्मृतियाँ

जीवन धारा यूँ डूब जाता मन, क्षितिज के उस पार, ज्यूँ होता विवश दिनकर, डूबने को बार-बार, ज्यूँ पखारती चाँदनी, तम के घनघोर केश, ऐसे…

चिर आनन्द की अभिलाषा

चिर आनन्द की अभिलाषा में, चंचल मन व्याकुल रहता है, अंधियारे-उजियारे में, कुन्ज गली के बाड़े में, देवालय में,जीव-निर्जिव सारे में, ढूँढ़़-ढूँढ़ थक हारी मैं,…

Responses

New Report

Close