हिंदी गजल- अब सफा कीजिये |

हिंदी गजल- अब सफा कीजिये |
टूटे रिश्तो मे जान बाकी हो अगर ,
प्यार से सींचकर अब वफा कीजिये |
काँच के जैसा होता है दिल का रिस्ता यहा |
टूट न जाये दील अब बचा कीजिये |
लाखो मिल जाएँगे सबको सबकी जवानी मे |
ढल जवानी हमसफर अब ढूंढा कीजिये |
तेरी दौलत के खातिर है चाहने वाले कई |
करता कौन मोहब्बत अब पता कीजिये |
हुशनों जवानी के है सब भूखे यहा |
जल जाये जवानी जुल्मो न खता कीजिए |
दिल की बात दिल मे न रखिए जनाब |
गर हो शिकायत कोई अब रफा कीजिये |
मिल गया जो दिल का रिश्ता उसे कबुल करो |
गर हो गई भूल कोई अब दफा कीजिये |
टूटे रिश्तो मे जान बाकी हो अगर ,
प्यार से सींचकर अब सफा कीजिये |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - January 19, 2020, 1:39 am

    वाह

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - January 19, 2020, 8:02 am

    Nice

  3. Pragya Shukla - January 19, 2020, 9:34 am

    Good

  4. Priya Choudhary - January 19, 2020, 9:42 am

    Very nice

  5. Abhishek kumar - January 19, 2020, 10:31 am

    Nice

  6. Kanchan Dwivedi - January 19, 2020, 10:54 am

    Good

  7. NIMISHA SINGHAL - January 19, 2020, 12:03 pm

    Wah

Leave a Reply