हिन्दी कविता- बसंत आने लगा |

हिन्दी कविता- बसंत आने लगा |
बागो मे फूल कलियों बाहर अत्यंत आने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
शरद ऋतु शने शने बिगत अब होने लगी |
धूप की नरमी अब गर्मी मे बदल जाने लगी |
गरम लिहाफ छोड़ मौसम सुखांत आने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
फूलो भवरों की गूंज अब गुंजने को है |
बहारों पराग पवन संग अब महकने को है |
चिड़ियों चह चह दिग दिगंत गाने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
पिया तू कहा पपीहा बिरह राग गाएगा |
सजनी को याद सजन बहुत अब आयेगा |
खुमार मदहोसी जीव जंत छाने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
टोली जवानो की राग फाग अब गाएँगे सब |
झाल मजीरा माँदर झूम अब बजाएँगे सब |
ऋतुराज स्वागत पुस्प पंथ बिछाने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
प्रीतम की प्यारी भर नयनो मे मद सारी |
मीठे कोयल की कुक उठे मन हुक नर नारी |
हिय प्रिय मधुर मिलन गीत कंठ गाने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |
झर झर निर्झर झरते झरने पवन |
बयार पुरवा बढ़ाए तन बदन अगन |
गंध केसर महक योवन आनंद सुहाने लगा |
मस्त मदन लिए अंगड़ाई देखो बसंत आने लगा |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Related Articles

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close