हिन्दी गजल- उसे बुझाओ लोगो |

हिन्दी गजल- उसे बुझाओ लोगो |
टूट रहे जो रिश्ते भाईचारे उसे बचाओ लोगो |
खींच रही जो दिवार दुश्मनी उसे गिराओ लोगो |
जल रहा जो मकान वो हमारा और तुम्हारा भी |
धु – धु हो रहा शहर सारा उसे बुझाओ लोगो |
बढ़ाके दिलो दूरिया छुप गए सियासतदान कही |
दहक रहा घर उनका भी उन्हे दिखाओ लोगो |
उन्माद उत्पात और आगजनी कोई हल नहीं |
मजहबी मर्ज की दवा कोई है बताओ लोगो |
वो भी क्या दिन थे हर बात हम गले मिलते थे |
अब भी वही जज्बाये दिल हाथ मिलाओ लोगो |
हो जूजून खुशहाली वतन उन्माद सही नहीं |
भूल नफ़रतों गुबार गुल मोहब्बत खिलाओ लोगो |
है मौके की तलास दुशमन की हम लड़ मरे |
हम एक थे एक रहेंगे जरा उसे बताओ लोगो |
जुम्मन का जुम्मा दिनु की दिवाली संग मनाएंगे |
घर का मसला मिल खुद ही सुलझाओ लोगो |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 27, 2020, 7:19 am

    Atiuttam

  2. Priya Choudhary - February 27, 2020, 7:53 am

    Bhot khub✍

  3. NIMISHA SINGHAL - February 27, 2020, 12:21 pm

    🌺🌺🌺🌺👌👌

  4. Pragya Shukla - February 27, 2020, 8:20 pm

    Good

  5. Kanchan Dwivedi - March 4, 2020, 10:03 pm

    Nice

Leave a Reply