हिन्दी गजल- हम सहने लगे |

हिन्दी गजल- हम सहने लगे |
तेरे बेगैर तन्हा ही हम रहने लगे |
याद तेरी अश्क आंखो बहने लगे |
हुआ रुसवा शहर कोई बात नहीं |
लेके तेरा नाम आशिक कहने लगे |
रुसवाइयों से कभी मै डरता नहीं |
बिछड़ न जाये बात हम डरने लगे|
मै आशिक तेरा कबुल करता हूँ मै |
आप साथ छोड़ मगर क्यो चलने लगे |
साथ छोड़ दोगे कभी मैंने सोचा नहीं |
लेके तेरा नाम पल पल यूं मरने लगे |
सहने को सह लूँ हर जुल्म मै जमाने |
तेरे इश्क हर सितम हम सहने लगे |
लिखे जो कलाम ख्याल मे तेरे हम |
समझ तुझे बार बार उसे पढ़ने लगे |
लौट आएगा तू मुझे यकीन है बहुत |
रोज रातो ख्वाब नए खूब सजने लगे |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 27, 2020, 7:20 am

    Nice

  2. Priya Choudhary - February 27, 2020, 7:56 am

    Nice 👏👏👏

  3. NIMISHA SINGHAL - February 27, 2020, 12:21 pm

    👌👌👌👌👌

  4. Pragya Shukla - February 27, 2020, 8:20 pm

    Good

  5. Kanchan Dwivedi - March 4, 2020, 10:03 pm

    Good

Leave a Reply