हे भारत ! भारत बनो।

अपनी जो आज़ादी थी,

मानो

सदियों के सर्द पर,

इक नज़र धुप ने ताकी थी।

‘पर’ से तंत्र, ‘स्व’ ने पायी थी,

पर ‘संकीर्ण-स्व’ से आजादी बाकी थी।

अफ़सोस…! ये हो न सका,

और अफ़सोस भी सीमित रहा।

आज इंसानियत की असभ्य करवट से आहत,

तिरंगे की सिलवटी-सिसक साफ़ है;

बस अब तो भारत चाहता है,

हल्स्वरूप

हर खेत में हल ईमान से उठ जाए।

हे भारत! तीन रंगों का एहसास करो,

फिर शायद तुम समझोगे,

इस बीमार इंसानियत की औषधि सभ्यता है,

सभ्य होना ही तो भारत की सफलता है।

सभ्यता के सानिध्य में,

पुनः ‘जगत-गुरु’ की उपाधि धरो,

हे भारत! भारत बनो।

हे भारत ! भारत बनो।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Tell us a bit about yourself...

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

3 Comments

  1. Sridhar - August 6, 2016, 2:51 am

    Gajab

Leave a Reply