कितने ही दिन गुज़रे हैं पर, ना गुजरी वो शाम अभी तक;
तुम तो चले गए पर मैं हूँ, खुद में ही गुमनाम अभी तक!
.
तुम्ही आदि हो,…तुम्ही अन्त हो,…तुमसे ही मैं हूँ, जो हूँ;
ये छोटी सी बात तुम्हें हूँ, समझाने में नाकाम अभी तक!
.
कैसे कह दूँ, …तुम ना भटको, …मैं भी तो इक आवारा हूँ;
शाम ढले मैं घर न पहुँचा, है मुझपे ये इल्ज़ाम अभी तक!
.
प्यार से, ‘पागल’ नाम दिया था, तूने जो इक रोज़ मुझे;
तुम तो बेशक़ भूले हो पर, सब लेते हैं वो नाम अभी तक!
.
तूने जो भेजा था ख़त मुझको, मेरे इक ख़त के जवाब में;
पढ़ा नहीं, पर रक्खा है, ‘अक्स’ मैंने वो पैग़ाम अभी तक!!…#अक्स

.

 


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

आज कुछ लिखने को जी करता है

6 Comments

  1. सीमा राठी - February 16, 2017, 12:15 pm

    behatreen andaaz e bayan

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

  3. Abhishek kumar - November 25, 2019, 8:38 pm

    Good

  4. प्रतिमा चौधरी - September 2, 2020, 3:35 am

    बहुत ही सुंदर

Leave a Reply