Ambe ma

अंबे मां जगदंबे मां,
तू है कितनी दयालु मां,
तेरा रुप है कितना निराला मा,
दुखियों के दुख हरने वाली,
सब को सुख तो देने वाली,
तेरी कृपा हम पर बनी रहे,
मेरी यह आरजू है मां,
मैंने नितदिन तेरी आरती करूं,
तेरा ही तेरा ही गुणगान करू,
मैंने तो नितदिन तुझे भोग लगाऊं,
तेरे चरणों में अपना शीश झुकाऊं,
अब कर दो इतना उपकार मां,
खुशियों से भर दो आंगन मेरा,
तेरी पूजा मै करती रहू,
बस इतनी सी दया देदो मा |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. Nikhil Agrawal - October 5, 2019, 8:14 am

    Nice n new aarti

  2. सुरेन्द्र मेवाड़ा 'सुरेश' - October 5, 2019, 8:45 am

    जय माता दी

  3. देवेश साखरे 'देव' - October 5, 2019, 9:41 am

    Bahut sundar

  4. NIMISHA SINGHAL - October 5, 2019, 9:59 am

    अम्बे चरण कमल है तेरे

Leave a Reply