Mere kwabo me tum ho sanam

मेरे ख्वाबों में बस तुम हो,
कोई और नहीं है सनम,
तुम्हें यकी हो न हो,
पर यही सच है सनम,
तुम मुझ पर यूं शक ना करो,
मैं बस तेरी हूं तेरी हूं सनम,
मैं हद से भी ज्यादा
तुझे प्यार करती हूं सनम,
तू ही तो मेरी दुनिया हो,
तू ही तो मेरी जान हो सनम,
तू जो पांव जमी पर रख दो,
तो मैं कदमों में फूल बिछा दूं सनम,
तू अगर साहिल हो तो मै लहरे हू सनम,
तेरे कदमों तले मेरी जन्नत है सनम |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

11 Comments

  1. Anil Mishra Prahari - October 16, 2019, 4:02 pm

    अच्छी रचना।

  2. NIMISHA SINGHAL - October 16, 2019, 10:00 pm

    Sunder rachna

  3. nitu kandera - October 17, 2019, 7:10 am

    Wah

  4. महेश गुप्ता जौनपुरी - October 17, 2019, 7:18 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply