PRAKRITI KI SHOBHA …

प्रकृति की शोभा से बढ़के कोई शोभा न होता
रब तेरे जैसा यार जहां में कोई ना होता ।।
————————————————–
हरिश्चन्द्र की शोभा, तु सत्य बनके आया
राम बनके तुमने, सुग्रीव को उबारा
सुदामा की दीन-दशा देखके,
प्रभु तुमने अपना सर्वस्व मित्रता पे लूटाया
————————————————-
रब तेरे जैसा यार जहां में कोई ना होता ।।1।।
————————————————–
मित्रता की लाज तुझसे ही बची है जमीं पे
तुझे जो जिस रूप में भजे
उसे तु उसी रूप में मिले
मित्रता की लाज तुझसे ही बची है जमीं पे
————————————————
रब तेरे जैसा यार जहां में कोई ना होता ।।2।।
——————————————
तुम्हें कोई यार माने
तुम्हें कोई भाई माने
तुम्हें कोई साँई माने
पर तुम सबको सब-कुछ माने
—————————————
रब तेरे जैसा यार जहां में कोई ना होता ।।3।।
कवि विकास कुमार


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Geeta kumari - February 21, 2021, 10:54 am

    मित्रता पर आधारित बहुत सुंदर रचना

  2. Satish Pandey - February 22, 2021, 2:29 pm

    हरिश्चन्द्र की शोभा, तु सत्य बनके आया
    राम बनके तुमने, सुग्रीव को उबारा
    सुदामा की दीन-दशा देखके,
    प्रभु तुमने अपना सर्वस्व मित्रता पे लूटाया।
    — बहुत सुंदर भाव, बहुत लाजवाब प्रस्तुति

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 22, 2021, 7:35 pm

    वाह

Leave a Reply