MERA KUCH BHI NAHI HAIN

मेरा कुछ भी नहीं है, मुझमें राम
सब-कुछ तेरा ही तेरा है राम
बस देना साथ हमें सदा राम
हम हैं तुम्हारे, तुम हो हमारे राम ।।1।।
———————————————
एक तेरा ही रूप फैला है कण-कण में राम
एक तुम्हीं हो सृष्टि में सबकुछ राम
व्याख्या की नहीं जा सकती तेरी महिमा की राम
एक तुम्हीं हो सबकुछ राम ।।2।।
——————————————————
वेदव्यास गीता हो तुम राम
तुलसी की रामायण घर-घर में गायी जाती है राम
संत कबीर की वाणी हो तुम राम
मीरा की गिरिधर, गणिका का उद्धारक हो राम ।।3।।
————————————————————-
क्या-क्या हो तुम राम
क्या ना हो तुम राम
किसमें सामर्थ्य है, तुझपे लेख लिखे राम
तुम्हीं लिखे, तुम्हीं सुने हैं राम ।।3।।
जय श्री सीताराम ।।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Geeta kumari - February 21, 2021, 10:55 am

    श्री राम जी पर बहुत सुंदर कविता, जय श्री राम 🙏

  2. Satish Pandey - February 22, 2021, 2:45 pm

    एक तेरा ही रूप फैला है कण-कण में राम
    एक तुम्हीं हो सृष्टि में सबकुछ राम
    व्याख्या की नहीं जा सकती तेरी महिमा की राम
    एक तुम्हीं हो सबकुछ राम
    —— कवि विकास जी की बहुत ही सुंदर रचना है यह। बहुत सुंदर लय, बहुत सुंदर भाव।

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - February 22, 2021, 7:36 pm

    खूब

Leave a Reply