Teri yaden

बरसों बीत गए,
तुमसे बिछड़े हुए,
पता नहीं कहां,
तुम चले गए,
एक आंधी सी आई,
और तुम चले गए,
रह गई बाकी,
बस तेरी यादें,
तेरी बेपरवाह
हंसी के फव्वारे,
तेरी चंचल आंखों
की चितवन,
तेरी बेपनाह मोहब्बत,
महसूस होता है
मेरे दिल को,
तुम मेरे आस-पास हो,
सुनते हो मेरी हर बातें,
तन्हाई में तुम मेरे साथ हो,
इन वादियों में तुम हो,
समंदर की लहरों में तुम हो,
इन फूलों में तुम हो,
इन हरियाली में तुम हो,
हर जगह तुम ही तुम हो |


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - December 9, 2019, 5:31 pm

    बहुत सुन्दर

  2. Abhishek kumar - December 9, 2019, 6:26 pm

    Good

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 9, 2019, 6:47 pm

    Good

  4. Ashmita Sinha - December 10, 2019, 1:34 pm

    Nice

  5. Abhishek kumar - December 14, 2019, 5:47 pm

    सुन्दर रचना

  6. Abhishek kumar - December 21, 2019, 10:22 pm

    Awesome

  7. Abhishek kumar - December 23, 2019, 2:29 am

    Superb

Leave a Reply