अफ़सोस

किसी को देख, ना कर अफ़सोस ।
यूँ ना अपनी किस्मत को तू कोस ।

भले ही तन से नहीं हैं हम पास,
भले ही ना ले सकूँ तुझे आगोश ।

पर मन तो एक दूजे के पास ही है,
दिल की सदा सुन, ज़ुबां है ख़ामोश।

ख़ुदा ने एक दूजे के लिए ही बनाया,
आंखें मूंद, नज़र आएगी फ़िरदौस।

देवेश साखरे ‘देव’

सदा- आवाज़, फ़िरदौस- स्वर्ग


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

16 Comments

  1. Rajendra Dwivedi - December 22, 2019, 1:12 pm

    Wah ji

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 22, 2019, 2:02 pm

    वाह

  3. Amod Kumar Ray - December 22, 2019, 3:13 pm

    Wah-wah

  4. Abhishek kumar - December 23, 2019, 2:23 am

    Nice

  5. Antariksha Saha - December 23, 2019, 9:04 am

    Wah

  6. Pragya Shukla - December 23, 2019, 9:47 am

    Nice

  7. Abhishek kumar - December 24, 2019, 8:16 am

    Awesome

  8. Kanchan Dwivedi - March 6, 2020, 6:10 pm

    Nice

Leave a Reply