आजादी

आजादी

आजाद हैं हम या अफवाह है फैली चारों ओर आजादी की,

जंज़ीरों में बंधी है आजादी या बेगुनाही में सज़ा मिली है आजादी की,

हकीकत है भी हमारे देश की आजादी की,

या बस गुमराह ख्वाबो की बात है आजादी की,

दिन रात सरहद पर डटे हैं फौजी घाटी की,

सो खाई थी कसम ज़ंज़ीर तोड़ देंगे गुलाम आजादी की॥
राही (अंजाना)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

याद कर लो सभी आज उनको

15 अगस्त का पर्व है

कब आयेगा नया सवेरा

दुर्लभ पेड़

2 Comments

  1. Kamal Tripathi - August 22, 2016, 3:54 pm

    बेहतरीन जी

  2. Satish Pandey - July 31, 2020, 8:42 am

    वाह

Leave a Reply