ओ कोरोना

ओ कोरोना
हो रहा है राष्ट्र लाँक,
और हो रहा राज्य लाँक।
नष्ट करेगे इस कोरोना को,
और करेगे इसको लाँक।।
बज गई थाली बज गई ताली,
बजी शंख और बज गई घंटी।
ओ कोरोना बाँध ले बिस्तर,
जल्द ही होगी तेरी छुट्टी।।
धैर्य रखेगे सर्तकता बरतेगे,
संयम से लेगे हम काम।
स्वच्छता को हथियार बनाकर,
आफवाहों पर ना देगे ध्यान।।
अपनी सूझ बूझ से हम,
इस वायरस का करेगे नाश।
सरकार प्रयास कर रही है,
हम भी है सरकार के साथ।।
हम भारतीय चलो खाए कसम,
चाहे करना पड़े कितना परिश्रम।
अपने भारत देश में एक पल भी,
कोरोना को लेने देगें ना दम।।
रीना कुमारी
तुपुदाना, राँची झारखंड


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

गजल- कोरोना कहर

कोरोना बुरा है

कोरोना को हराना है

कोरोना मार भगाना है

7 Comments

  1. Kanchan Dwivedi - March 24, 2020, 1:03 pm

    Shi kaha

  2. Priya Choudhary - March 24, 2020, 3:59 pm

    Nice 👍

  3. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 24, 2020, 6:27 pm

    Nice

  4. Pragya Shukla - March 25, 2020, 8:47 am

    Sahi hai

  5. Abhishek kumar - March 25, 2020, 9:25 am

    👍

  6. Dhruv kumar - March 26, 2020, 10:36 am

    Good

  7. Pragya Shukla - April 1, 2020, 2:15 pm

    सही है

Leave a Reply