कविता – तो बच जाने दो |

कविता – तो बच जाने दो |
बढ़ गया लोक डाउन तो बढ जाने दो |
जान है जरूरी माल से तो बच जाने दो |
इतने दिन बीते कुछ दिन और गुजारेंगे |
घर की बिखरी चिजों को थोड़ा सवारेंगे |
आखिर कट रही जिंदगी तो कट जाने दो |
जो बताया गया वो हमसे निभाया गया |
हाथ धोना घर रहना मास्क लगाया गया |
योद्धा लड़ रहे कोरोना तो निपट जाने दो|
अपनी ही नहीं परवाह जान गैरो भी करनी |
घर मे रहो खाओ चाहे नमक रोटी चटनी |
चढ़ रहा कोरोना गर फांसी तो चढ़ जाने दो |
कभी सोचा नहीं देखना पड़ेगा यह दिन भी |
रहना पड़ेगा सबसे दूर मन होगा खिन्न भी |
पके गेंहू खेतो मे कटे नहीं तो सड़ जाने दो |
रहोगे जिंदा और भी फसले उगा लोगे तुम|
मनाओगे खुशिया और तबले बजा लोगे तुम|
चढ़ा हत्थे योद्धाओ कोरोना तो चढ़ जाने दो |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286
व्हात्सप्प्स -8210525557


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

तुम्हे सुमरने से मिल जाता हैं

मां के साथ ये कौन है

उदासी

सावन

4 Comments

  1. Pragya Shukla - April 15, 2020, 8:32 am

    Good

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - April 15, 2020, 11:10 pm

    Nice

  3. Dhruv kumar - April 26, 2020, 6:42 am

    Nyc

  4. Abhishek kumar - May 10, 2020, 10:40 pm

    Good

Leave a Reply