“चाँद” #2Liner-106

ღღ__गलतफ़हमी में जागते रहे, रात भर उनको जगता देखकर;
.
भला क्या ज़रूरत थी चाँद को, यूँ रात में निकलने की!!….#अक्स
.

Related Articles

यादें

बेवजह, बेसबब सी खुशी जाने क्यों थीं? चुपके से यादें मेरे दिल में समायीं थीं, अकेले नहीं, काफ़िला संग लाईं थीं, मेरे साथ दोस्ती निभाने…

मेरा चाँद

वो खिड़की भले ही बंद रहती है पर, महसूस तुम्हें ही करता हूँ.. तुम्हारे सो जाने के बाद भी, तुम्हारी याद में देर तक जगता…

Responses

New Report

Close