तिरंगा

तिरंगा

आजादी की शान तिरंगा।

तोड़ तिलस्म अंग्रेजों की ,

लेकर आया नवविहान तिरंगा।

शमां ए वतन की लौ  पर कुर्बान तिरंगा ।

हर हिन्दूस्तानी की जान तिरंगा।

आजादी के इस पावन पर्व पर

आओ मिल कर सब गाए मेरी आन बान शान तिरंगा।

 

किशोर कुमार झा।

मुखर्जी नगर,

दिल्ली -110009

 

 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

2 Comments

  1. Ajay Nawal - August 15, 2016, 12:01 am

    nice

Leave a Reply