“तौबा साहब, तौबा” #2Liner-56…

ღღ__वो इक पल जिसमें तुम्हारे लब हों, मेरे लबों के पास;
.
उस वक़्त भी हम रहें शरीफ?? “तौबा साहब, तौबा” !!…..#अक्स
.
1013350_661347324007559_3069152094826406764_n

Related Articles

वक्त

सबसे तेज होती है, वक्त की रफ्तार | वक्त में घुली है, सबकी जीत या हार | वक्त के दो पहलू, नफरत और प्यार |…

A pray for india

जब तक है जीवन तब तक इस की सेवा ही आधार रहे विष्णु का अतुल पुराण रहे नरसिंह के रक्षक वार रहे हे प्राणनाथ! हे…

Responses

+

New Report

Close