प्यार कम होगा नहीं

ये गिले -शिकवे कहूं तो
मित्रता में लाजमी हैं,
प्यार कम होगा नहीं,
जो कल दिखे थे आज भी हैं।

Related Articles

O raina tujhe mai kya kahu

ओ रैना, तुझे मैं क्या कहूं? रात कहूं, रैना कहूं या निशा कहूं, मिलता है दिल को सुकून, साये में तेरे, मिट जाती है सारी…

Responses

  1. The best,👌 मित्रता में गिले – शिकवे होना तो लाज़मी है ही
    लेकिन मित्रता भी बनी रहनी चाहिए। आपकी कलम ने आपके दिल की बात कह दी। बहुत सुंदर

    1. कितनी सुन्दर और सहज समीक्षा की है आपने, धन्यवाद भी कम पड़ता है। इस उत्साहवर्धन हेतु अभिवादन।

New Report

Close