प्रेम

🌺”प्रेम एक पूर्ण शब्द है
अपूर्णता से पूर्णता की ओर ले जाने वाला।
जितना अधूरा उतना कामयाब
अखंड ज्योति सा
हृदय में उम्र भर सुलगने वाला।””
– निमिषा🌺

Related Articles

प्रेम

चिरायु,चिरकाल तक रहने वाला चिरंतन है प्रेम, निष्काम, निः संदेह निश्चल है प्रेम। पुनरागमन, पुनर्जन्म ,पुनर्मिलन है प्रेम। संस्कार, संभव संयोग है प्रेम, लावण्य, माधुर्य,…

प्रेम से भिक्षा

कविता- प्रेम से भिक्षा —————————- प्रेम है शिक्षा, प्रेम से भिक्षा, प्रेम ही सब कुछ , बिना प्रेम नहीं- जग मे जीने की इच्छा| प्रेम…

Responses

New Report

Close