बदल गये हो तुम

0

कितना बदल गये हो तुम

इंतजार किया जी भर कर उनसे मिलने की कोशिश भी की,

कहाँ रह गये वो जिन्होने हर वादा निभाने की कसम भी ली।
आसान भी तो नही है सूर्य की किरणों की तरह बिखर जाना,

खुद की खुशियों को न्यौछावर कर दूसरो को खुशी दे जाना।

माना बहुत व्यस्त है जिन्दगी की उलझनों मे वह आजकल,

पर कहाँ रह गये जो मुझे याद करते थे हर दिन हर पल।

शायद खुशी मिलती होगी तुम्हे मुझे यूं तड़पता हुआ देखकर,

मेरा क्या?तुम खुश रह लो मुझे दुनिया मे तन्हा छोड़कर।

बोलो मिट गयी है यादे या भुलाने की कोशिश मे लगे हो तुम,

क्या?अब भी न मनोगे कि कितना ज्यादा बदल गये हो तुम।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. Poonam singh - December 3, 2019, 3:36 pm

    Nice

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 3, 2019, 7:26 pm

    Nice

  3. Ashmita Sinha - December 4, 2019, 6:40 pm

    Nice

  4. Pragya Shukla - December 9, 2019, 8:49 pm

    वाह

Leave a Reply