बेकारी

चपरासी पद की भर्ती में,
पीएचडी धारक आवेदक हैं,
एक अनार है सौ बीमार हैं,
जुगाड़ में बैठे पहरेदार हैं,
इस जुगाड़ के खेल ने सारी
प्रतिभाओं को निराश कर दिया,
बेकारी के रोग ने देखो,
युवाशक्ति को क्षीण कर दिया.
—– डा. सतीश पांडेय

Related Articles

कृष्णलीला

*कृष्ण लीला* तू दधि चोर तो; तोही न छोडूं, पकड़ बांह तोरे; कान मरोड़ूँ ! लल्ला मेरो मोही हिय ते प्यारा तोसे कुढ़त गोकुल ब्रिज…

Responses

  1. आज के परिप्रेक्ष्य को दर्शाती बहुत सुंदर रचना है….एक अनार सौ बीमार वाली कहावत चरितर्थ होती दिखाई भी दे रही है । बहुत सुंदर

  2. यथार्थ को प्रदर्शित करती हुई सुंदर रचना आजकल यही हो रहा है युवा करे भी क्या पढ़ा लिखा तो है डिग्रियां तो है मगर नौकरी नहीं सरकार का ध्यान इस तरफ जाता ही नहीं हुआ तो गंदी राजनीति करने में लगी हुई है

New Report

Close