भारत भाग्य जगाओ

हिन्दी ओज कविता- भारत भाग्य जगाओ
जागो हे महाकाल हे महादेव हे हरिहरनाथ तुम |
करो दंडित दानवो देशद्रोहियों हे भूतनाथ तुम |
विपदा भारी भारत आज अब आन पड़ी है |
खंडित करने राष्ट्र दानव सेना चल पड़ी है |
जाती धर्म मजहब की आग देश लगाते है |
देश बिरोधी आजादी आवाज सब लगाते है |
दो सद्बुद्धि सद्द्विचार देशप्रेम हे शम्भूनाथ तुम |
भारत भाल टीका काला लगने कभी न पाये |
साजिश सियासत भारत जलने कभी न पाये |
भोली भाली जनता कानो जहर ये भरते है |
चौक चौराहो दंगा फसाद अपने भाई मरते है |
करो तांडव दुशमनों देश अब हे औघड़नाथ तुम |
हे कृपालु दयालु हे जटाधारी हे त्रिपुरारी |
खोलो त्रिनेत्र करो भस्म चढ़ो नंदी सवारी |
डम डम डमरू बजाओ चमचम त्रिशूल चमकाओ |
मौका पा के दुश्मन न घुस आए भुजंग उसे डसवाओ |
हे जटाधारी भस्मधारी जागो अब हे गौरीनाथ तुम |
जटा खोल गंगा बहाओ पापियो पाप मिटाओ |
हर हर गंगा हरहर महादेव भारत भाग्य जगाओ |
काँपे थर थर दुशमन भूत बैताल छोड़ो |
बाल न बांका हो भारत बला मुख मोड़ो |
हे कैलासपति उमापति हे रमापति नीलकंठनाथ तुम |
भ्र्स्ट नेताओ मति तुम फेरो घुसपैठीयों चहुं तुम घेरो |
लड़वाना मरवाना बहकाना बंद करे कुबुद्धि तुम जारो |
बने भारत महान विश्व की शान शंकर तुमको प्रणाम |
आदि अनादी शिव अमर तेरी कथा गाउ तेरा गुणगान |
हे त्रिलोकी नाथ दो भारती भक्त साथ हे अमरनाथ तुम |
विश्व विजयी बने भारत जय हो तेरी गौरा प्राण नाथ तुम |

श्याम कुँवर भारती [राजभर] कवि ,लेखक ,गीतकार ,समाजसेवी ,

मोब /वाहत्सप्प्स -9955509286

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

जंगे आज़ादी (आजादी की ७०वी वर्षगाँठ के शुभ अवसर पर राष्ट्र को समर्पित)

वर्ष सैकड़ों बीत गये, आज़ादी हमको मिली नहीं लाखों शहीद कुर्बान हुए, आज़ादी हमको मिली नहीं भारत जननी स्वर्ण भूमि पर, बर्बर अत्याचार हुये माता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

Responses

New Report

Close