ये खुद नही मरी है ..

ये दृश्य मैंने ही इन आँखों में उतारा है,
ये खुद नही मरी है मैंने इसे मारा है..
ये खुद नही मरी है मैंने इसे मारा है..

दो चार दिन से ही तबियत खराब थी इसकी,
पर हिम्मत क्या कहूँ बेहिसाब थी इसकी..
दवा तो दे न सका, मैंने इसे गाली दी,
ज़िदगी उम्र भर खुली किताब थी इसकी..
आज थक हार इसने कर लिया किनारा है,
ये खुद नही मरी है मैंने इसे मारा है..

मिला जो दुनियाँ से, ना वो खिताब छोड़ सका,
न उसे प्यार दिया, ना शराब छोड़ सका..
हर एक दिन नई शुरुआत से वो बुनती रही,
मैं तोड़ता ही गया जितने ख्वाब तोड़ सका..
हर एक दिन ही इसने मौत सा गुज़ारा है,
ये खुद नही मरी है मैंने इसे मारा है..

हर इक कसौटी पर उतरी ये खरी है साहब,
मरी पहले भी, आज पूरी मरी है साहब..
आज बेजान सी बुत बनके पड़ी है वरना,
खुद इसने कितनों में ही जान भरी है साहब..
मौत के घाट इसे कई दफा उतारा है,
ये खुद नही मरी है मैंने इसे मारा है..

#घरेलूहिंसा

– प्रयाग धर्मानी


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

भोजपुरी चइता गीत- हरी हरी बलिया

तभी सार्थक है लिखना

घिस-घिस रेत बनते हो

अनुभव सिखायेगा

22 Comments

  1. Satish Pandey - September 1, 2020, 3:24 pm

    वाह वाह, क्या बात है

  2. Vasundra singh - September 1, 2020, 3:24 pm

    बहुत खूब लिखा है आपने, सुन्दर काव्य

  3. Satish Pandey - September 1, 2020, 3:25 pm

    सर्वश्रेष्ठ कवि सम्मान मिलने पर बहुत बहुत बधाई

  4. Pragya Shukla - September 1, 2020, 3:37 pm

    Bahut khoob
    मेरी उम्मीदों पर खरा उतरने पर बधाई हो सर

  5. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - September 1, 2020, 4:01 pm

    Atisunder kavita

  6. Rishi Kumar - September 1, 2020, 4:03 pm

    सर आपकी लेखनी को सलाम
    बहुत खूबसूरत

  7. Anjali Gupta - September 1, 2020, 4:14 pm

    Nice poem

  8. Geeta kumari - September 1, 2020, 4:14 pm

    भावों को बहुत ही सुन्दर तरीके से शब्दों में पिरोया है। सैल्यूट

  9. Suman Kumari - September 1, 2020, 4:16 pm

    सुन्दर अभिव्यक्ति ।

  10. प्रतिमा चौधरी - September 1, 2020, 5:42 pm

    बहुत खूब

  11. Priya Choudhary - September 1, 2020, 7:06 pm

    नशे की क्रूरता किस कदर बेरहम हो सकती है सटीक चित्रण करती हुई👍

Leave a Reply