वंदेमातरम

मां तुझ से है मेरी यही इल्तज़ा।
तेरी खिदमत में निकले मेरी जां।

तेरे कदमों में दुश्मनों का सर होगा,
गुस्ताख़ी की उनको देंगे ऐसी सजा।

गर उठा कर देखेगा नजर इधर,
रूह तक कांपेगी देख उनकी कज़ा।

कभी बाज नहीं आते ये बेगैरत,
हर बार शिकस्त का चखकर मज़ा।

दुश्मन थर – थर कांपेगा डर से,
वंदे मातरम गूंजे जब सारी फिज़ा।

देवेश साखरे ‘देव’


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

कवि का समर्पण

शहीद को सलाम

चाहता हूँ माँ

हिन्दी सावन शिव भजन 2 -भोला जी की भंगिया |

12 Comments

  1. Priya Choudhary - June 30, 2020, 7:42 am

    🇮🇳🇮🇳 बहुत सुंदर🇮🇳🇮🇳

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - June 30, 2020, 10:47 am

    बेहतरीन भाव
    भारत माता की जय

  3. Pragya Shukla - June 30, 2020, 3:08 pm

    जय हो

  4. Yuvraj Mudit - July 1, 2020, 2:49 pm

    nice

  5. Antima Goyal - July 7, 2020, 9:47 pm

    nice

  6. Sulekha yadav - July 7, 2020, 10:07 pm

    nice

  7. Abhishek kumar - July 10, 2020, 11:00 pm

    👌👌

  8. Satish Pandey - July 11, 2020, 1:24 pm

    वाह जी वाह

  9. Anita Sharma - July 12, 2020, 11:21 am

    Nice

Leave a Reply