शिक्षक

0

बचपन से ही शिक्षक के हाथों में झूला-झूला करते हैं,

ज्ञान का पहला अक्षर हम बच्चे माँ से ही सीखा करते हैं,

प्रथम चरण में मात-पिता के चरणों को चूमा करते हैं,

दूजे पल हम पढ़ने- लिखने का वादा शिक्षक को करते हैं,

विद्यालय के आँगन में शिक्षक हमसे जो अनुभव साझा करते हैं,

उतर समाज सागर में हम बच्चे फिर कदमों को साधा करते हैं,

एक छोटी सी चींटी से भी शिक्षक हमको धैर्य सिखाया करते हैं,

सही मार्ग हम बच्चों को अक्सर शिक्षक ही दिखाया करते हैं,

धर्म जाति के भेद को मन से शिक्षक ही मिटाया करते हैं,

देश-प्रेम संग गुरु सम्मान भाव शिक्षक ही जगाया करते हैं,

जीवन के हर क्षण को शिक्षक शिक्षा को अर्पण करते हैं,

इसी तरह हम अज्ञानी बच्चों को शिक्षक सदज्ञान कराया करते हैं।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

ज्ञान

क्यो कुछते हो परतीभा के परतीभाओ को ।

क्यो कुछते हो परतीभा के परतीभाओ को ।

अगर मै कुड़ा कागज होता,

अगर मै कुड़ा कागज होता,

गिल्ली

2 Comments

  1. ज्योति कुमार - August 22, 2018, 10:10 am

    Waah kya baat hai.

Leave a Reply