सरकारी नौकरी

हम सरकारी नौकरी
के पीछे पागल हैं,दीवाने हैं

हम भविष्य की चिंता में
देखो दीवाने हैं,मस्ताने हैं ।

लोग समझते यही रहे
हमें आखिर कौन-सा रोग लगा?

हम बेरोजगारी रोग से पीड़ित है
हमें गवर्नमेंट जॉब का नशा चढ़ा।

सब नाहक ही हमसे रूठ गए
सब कहते हैं हम भूल गए

पर सच्चाई कोई क्या जाने!
हम पर क्या बीती रब जाने।

हम रोज ही फार्म भरते हैं
बस पेपर देते रहते हैं

कोई रिजल्ट ना आए हाथ
बस कोर्ट के चक्कर करते हैं।

हम तीन साल के थे तब से
बस ‘अ,आ,इ,ई ‘करते हैं

जब रात में सब सोते हैं
हम टीईटी-सीटेट पढ़ते हैं।

हम सोच-सोच कर सूख गए
सुपर टेट का रिजल्ट कब आएगा?

अब तो भैंस जलेबी खाएगी
और बंदर पान चबाएगा ।

अब प्रज्ञा शुक्ला कहती है
दिवा-स्वप्न देखना बंद करो

सरकारी के पीछे मत भागो
कुछ रोजी-रोटी का प्रबंध करो।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

32 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 19, 2019, 7:40 pm

    Nice

  2. Amod Kumar Ray - December 19, 2019, 9:09 pm

    उत्तर प्रदेश की सच्चाई।
    बहुत खुब।

  3. Abhishek kumar - December 19, 2019, 9:51 pm

    Good

  4. Abhijeet Shukla Sitapur - December 20, 2019, 12:38 pm

    Sahi kaha

  5. Gijju. Raam - December 21, 2019, 11:06 am

    सही कहा आपने

  6. Roopraani Ji - December 21, 2019, 11:10 am

    बहुत ही सुंदर कविता

  7. Reetu Honey - December 21, 2019, 12:24 pm

    Yhi haal h aaj kal

  8. Honey Shukla - December 21, 2019, 12:36 pm

    Bilkul sahi

  9. King radhe King - December 21, 2019, 12:41 pm

    सास्वत सत्य

  10. Reema Raj - December 21, 2019, 12:46 pm

    Goood

  11. Reema Raj - December 21, 2019, 12:56 pm

    गुड

  12. Shyam Kunvar Bharti - December 21, 2019, 6:11 pm

    वाह बहूत सुन्दर भाव

  13. Pragya Shukla - December 25, 2019, 10:14 am

    🤔🤔🤔

Leave a Reply