हम आंखों में बस देखेंगे

चलो चांद पर चलकर बैठेंगे,
कुछ नैन मटक्का खेलेंगे।
क्या दिल में है अरमान तेरे!
क्या दिल में है अरमान मेरे!
तारों की छैयां बैठेंगे,
हम आंखों में बस देखेंगे।
तुम भी पढ़ना मैं भी देखूं
आखिर मेरी क्या चाहत है?
तुम खो जाना,
तब मैं ढूंढूं !
तुम्हें मेरी कितनी जरूरत है।
सिर्फ खेल नहीं,
यह जीवन है।
इप्पी- दुप्पी तुम समझो ना।
शतरंज नहीं ना चौपड़ है,
चालो पे चाले चलना ना।
दिल को मेरे जो जाती है,
वह सीधी सादी रस्ता है
बस हाथ पकड़ थामे रहना,
यदिएक दूजे का बनना है।
तेरे प्यार पर मेरा हक पूरा,
नहीं और किसी का हिस्सा है।
यदि है मंजूर
तो समझो तुम
इतिहास में अमर यह किस्सा है।
निमिषा सिंघल


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - November 12, 2019, 4:39 pm

    बहुत हीं सुन्दर भाव

  2. Antariksha Saha - November 12, 2019, 8:15 pm

    Bahut khoob

  3. Raj Bhatia - November 12, 2019, 8:19 pm

    बहुत सुन्दर कल्पना है जी .

  4. nitu kandera - November 12, 2019, 8:21 pm

    nice

  5. Ashmita Sinha - November 13, 2019, 9:22 am

    Nice

  6. Abhishek kumar - November 24, 2019, 9:05 am

    चलो

Leave a Reply