“ख़ुदा-ख़ुदा करके”

ღღ_तजुर्बे सब हुए मुझको, महज़ उससे वफ़ा करके;
दुआ जीने की दी उसने, मुझे खुद से जुदा करके!
.
मैं कहना चाहता तो हूँ, यकीं उसको अगर हो तो;
ग़ैर का हो नहीं सकता, उससे अहद-ए-वफ़ा करके!
.
मैं मुजरिम हूँ अगर तेरा, सजा जो चाहता हो दे;
न ख़ुद से दूर रख तू यूँ, मर जाऊंगा ज़रा-ज़रा करके!
.
शिकायत है अगर मुझसे, तो बताते क्यूँ नहीं आख़िर;
सुकून थोडा तो मिल जाता, हाल-ए-दिल बयां करके!
.
नज़र किसकी लगी है “अक्स”, ख़ुदाया प्यार को अपने;
कौन है अपना, जो मुझको लूटता है ख़ुदा-ख़ुदा करके!!…..‪#‎अक्स‬
.


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

3 Comments

  1. Praveen Nigam - June 26, 2016, 4:28 pm

    Nice one

  2. देव कुमार - June 28, 2016, 12:59 pm

    So Nice

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:42 pm

    बहुत सुंदर

Leave a Reply