हाइकू

July 19, 2021 in हाइकु

आँख मलती
जग रही बिटिया
मुँह बनाती |

ठप्प दुकान
नहीं कोई ग्राहक
बुरा समय |

गलियाँ तंग
आवाजाही हो रही
चुभे दीवार |

अशोक बाबू माहौर

दोहा

December 10, 2018 in हिन्दी-उर्दू कविता

फूटी मटकी रख दयी, माटी लेप लगाय
पानी पल पल रिस रहा, मन भी धोखा खाय।

अशोक बाबू माहौर
10 /12 /2018

हाइकु

December 3, 2018 in हाइकु

हथेली पर
सपनों की घड़ियाँ
साकार नहीं।

नदी के पार
रेत के बडे़ टीले
हवा नाचती।

अशोक बाबू माहौर

हाइकु

December 3, 2018 in हाइकु

हथेली पर
सपनों की घड़ियाँ
साकार नहीं।

नदी के पार
रेत के बडे़ टीले
हवा नाचती।

लौट आने दो उस हवा को

March 20, 2018 in मुक्तक

लौट आने दो उस हवा को
गुनगुनाने दो उस हवा को
वह आयी है गीत सुनाने
थरथराने दो उस हवा को।

अशोक बाबू माहौर

स्वच्छ भारत

March 7, 2018 in हिन्दी-उर्दू कविता

मिलकर साथ
हाथ मिलायें
खुद जागें
और जगायें
स्वच्छ भारत अभियान
सफल बनायें।
गली मोहल्ले गंद मुक्त हो
सड़कें स्वच्छ चमके
देहरी द्वार महक उठे
ऐसा संघर्ष अभियान चलायें
स्वच्छ भारत अभियान
सफल बनायें।
स्वच्छ हो कोना कोना
मधुर लगे हर राह चलना
रौनक हो भारत में
आओ खुलकर साथ निभायें
स्वच्छ भारत अभियान
सफल बनायें।

सवाल पूछा

February 24, 2018 in हिन्दी-उर्दू कविता

संस्कार में दबे
बच्चे से
घूरते हुए
अध्यापक ने
सवाल पूछा,
बेटा ये बताओ
हम कौन?
बच्चा मुस्कुराते बोला,
अध्यापक जी
आप गुरु हम शिष्य
यानी गुरु धाम में
हम पढ़ रहे
आप पढ़ा रहे
‘हम कौन?
हम कौन?’

अशोक बाबू माहौर

पंछी

February 24, 2018 in हाइकु

उडता पंछी
नील गगन फैला
विशाल हाथ।

New Report

Close