अहिल्या पत्थर बनायी जाती है

अहिल्या पत्थर बनायी जाती है
—————******——————
करनी किसी की भी हो,सतायी नारी जाती है ।
हवस हो इन्द्र की,अहिल्या पत्थर बनायी जाती है ।।
युग युगांतर से यही,बस होता आया है
अहम तुष्टि हो नर की, कलंक नारी पे छाया है
रूप यौवन,सौम्यता नारी ने ईश्वर से पाया है
हरहाल में दुश्मन,बनी उसकी ही काया है
चिथङे उङते सम्मान के,कलंकनी कहलायी ज़ाती है ।
हवस हो इन्द्र की–
मान गया,सम्मान गया,अनचाहा जीवन पाया है
नारी की अस्मिता पर,कैसा संकट छाया है
अन्तर्मन को भेदती निगाहें,दरिन्दगी का कहर ढाहा है
भूलता क्यू है वो भी, किसी जननी का जाया है
बहसी बना वह ,कमी उसमें निकाली जाती है ।
हवस हो इन्द्र की,अहिल्या पत्थर बनायी जाती है ।।—–
बस फर्क इतना है तब व अब की नारी की आह में
हर एक से ठोकर खाती,अहिल्या पङी थी राह में
गौतम का कोपभाजन बन बैठी,इन्द्र की चाल में
बनी शीला उद्धार हेतु, राम के इन्तजार में
दोष किसी की नियत का,दोषी वही ठहरायी जाती है ।
हवस हो इन्द्र की,अहिल्या पत्थर बनायी जाती है ।।—
कल नहीं थी,आज भी कहाँ,नारी सुरक्षित रहती है
चौक-चौराहे पे,अनामिका की आवरू,लुटती रहती है
दुष्कर्म से पीड़ित,नहीं तो,एसिड से जलती रहती है
कोख में,तो कभी,दहेज की वेदी पे चढ़ती रहती है
अत्याचारी है कोई,अंगुली नारी पे उठायी जाती है ।–

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

प्यार अंधा होता है (Love Is Blind) सत्य पर आधारित Full Story

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ Anu Mehta’s Dairy About me परिचय (Introduction) नमस्‍कार दोस्‍तो, मेरा नाम अनु मेहता है। मैं…

ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो बहसी-दरिन्दें हैं ।

ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो बहसी-दरिन्दें हैं । अगर इसे अभी छोड़ डालोगे. तो आगे इसका परिणाम बुरा भुगतोगे ।। ठहरो-ठहरो इनको रोको, ये तो…

Responses

  1. नारी युग युगांतर से पुरुषों के हाथों छलती आई। इतिहास आज भी गवाह है। रचना अच्छी है।

  2. नारी की स्थिति के बारे में प्रकाश डालती हुई,हृदय स्पर्शी रचना।

    1. गीताजी मैं तहे दिल से शुक्रिया अदा करती हूँ ।
      कृपया आगे भी मार्गदर्शन करती रहे ।

  3. पुरुष को ईश्वर ने इसलिए ताकतवर बनाया कि वो नारी की रक्षा कर सके, किंतु जब रक्षक है भक्षक बं बैठे तो सज़ा उसे मिलनी चाहिए ,ना कि नारी को ।….बहुत सुंदर भाव👏

  4. बहुत ही बेहतरीन एवं सराहनीय प्रस्तुति
    नारी का प्राचीन समय से अब तक ,जो शोषण हो रहा है
    उसका यथार्थपरक चित्रण
    वास्तव में यह एक चिंता का विषय है, वर्तमान में इस शोषण को नारी ही खत्म कर सकती है , जागरूकता से।

New Report

Close