“आखिरी ख्वाहिश” #2Liner-74

ღღ__चलो मिल ही लेते हैं “साहब”, फिर कभी न मिलने को;
.
यही ख्वाहिश बची है दिल में, इक आखिरी ख्वाहिश की तरह!!….‪#‎अक्स‬
.
12688160_178469925858371_6129127852261591800_n

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

आज कुछ लिखने को जी करता है

“ना पा सका “

“ना पा सका “

“मैं कौन हूँ”

“मैं कौन हूँ”

8 Comments

  1. Ushesh Tripathi - March 14, 2016, 10:07 am

    khvahish to achhi hai …….
    bss dua karta hu puri ho jaye

  2. Ajay Nawal - March 15, 2016, 1:20 am

    nice one bro!

  3. Ankit Bhadouria - March 15, 2016, 7:59 am

    kuch khwahishon ki tabeeren nahin hoti !!

  4. Anirudh sethi - March 15, 2016, 6:46 pm

    bahut khub… nice

  5. Pragya Shukla - April 19, 2021, 12:39 pm

    अति सुंदर है आपकी आखिरी ख्वाहिश

Leave a Reply