एक दौर वो भी गुजरा है

एक दौर वो भी गुजरा है!
जब हम कागज और कलम
लेकर सोते थे।

यादों में पल-पल भीगा
करती थीं पलकें ,
अभिव्यक्ति के शब्द
सुनहरे होते थे।

ना दूर कभी जाने की
कसमें खाई थीं
मिलने के अक्सर वादे
होते रहते थे।

कोई यूं ही कवि
नहीं बनता है यह सच है
हम भी तो पहले
कितना हंसते रहते थे।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

कवि का समर्पण

शहीद को सलाम

चाहता हूँ माँ

हिन्दी सावन शिव भजन 2 -भोला जी की भंगिया |

17 Comments

  1. Master sahab - March 25, 2020, 9:21 am

    Nice

  2. Abhishek kumar - March 25, 2020, 9:22 am

    सुन्दर स्वाभविक

  3. Anita Mishra - March 25, 2020, 10:44 am

    Good

  4. Kanchan Dwivedi - March 25, 2020, 1:33 pm

    Nice

  5. Antariksha Saha - March 25, 2020, 11:27 pm

    Es pathar dil samaj main achi kavita.padh hasna kabhi na sochna

  6. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 26, 2020, 6:47 am

    Nice

  7. Dhruv kumar - March 26, 2020, 10:35 am

    Nyv

  8. Vani Shukla - April 4, 2020, 5:04 pm

    Good

Leave a Reply