गजल- कोरोना कहर

गजल- कोरोना कहर
माना की कोरोना कहर बड़ा मगर आया नहीं |
सारा जहाँ दहसत मे हिन्द मगर छाया नही |
फानूस बनके करता हिफाजत वजीरे आलम |
ठहर गया वो लोकडाउन से कुछ कर पाया नहीं |
मिल रहा वतन जंगे कोरोना हर खासो आम |
जीत लेंगे जंग क्या हुआ गर कुछ खाया नहीं |
है सजग सब कर्मबीर जान अब बचाने सबकी |
घर कैद जिंदगी और बेटा घर पहुँच पाया नही|
खींच दिया लक्ष्मण रेखा दहलीज वजीरे आलम|
माकां मे कैद आदमी कोरोना से मर पाया नहीं |
मुंह पे नकाब जेब सेनेटाइजर लेकर जाना बाहर |
रखना दूरिया तुम लोगो साथ कोरोना लाया नहीं |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

हैसियत क्या थी मेरी…

कंघी

जज़्बाते – दिल

तमाशा

5 Comments

  1. NIMISHA SINGHAL - March 31, 2020, 10:56 am

    👏👏

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - March 31, 2020, 11:02 am

    Nice

  3. Kanchan Dwivedi - March 31, 2020, 1:03 pm

    👌👌👌👌

  4. Pragya Shukla - April 1, 2020, 2:08 pm

    Good

  5. Priya Choudhary - April 1, 2020, 4:29 pm

    👏👏nice

Leave a Reply