गजल -जीत लेंगे कोरोना |

गजल -जीत लेंगे कोरोना |
जीत लेंगे कोरोना तेरा नाम मिटा देंगे |
मुरझाए चेहरों पर मुस्कान खिला देंगे |
पहले न जान पाये अब जान चुके तुझे |
तू पहचान हमे तुझको पानी पीला देंगे|
आता हमे हिफाजत करनी खुद अपनी |
आया तू जहा से तुझे वही लौटा देंगे |
बहुत मचा लिया उत्पात अब रुक जा |
कोरोना योद्धा तुझे मार लिटा देंगे|
लगा लॉक डाउन अब तेरा वार न चले |
जलती तेरी जीवन लौ अब मिटा देंगे |
मानव दुशमन वायरस टिक न पायेगा |
दो पल का जीव गहरी नींद सुला देंगे |
श्याम कुँवर भारती (राजभर )
कवि/लेखक /समाजसेवी
बोकारो झारखंड ,मोब 9955509286
व्हात्सप्प्स -8210525557


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

कवि का समर्पण

शहीद को सलाम

चाहता हूँ माँ

हिन्दी सावन शिव भजन 2 -भोला जी की भंगिया |

4 Comments

  1. Pragya Shukla - April 15, 2020, 8:31 am

    Good

  2. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - April 15, 2020, 11:09 pm

    Nice

  3. Dhruv kumar - April 26, 2020, 6:40 am

    Nyc

  4. Abhishek kumar - May 10, 2020, 10:40 pm

    गुड

Leave a Reply