मृत टहनियाँ

वो टहनियाँ जो हरे भरे पेड़ों

से लगे हो कर भी

सूखी रह जाती है

जिनपे न बौर आती है

न पात आती है

आज उन

मृत टहनियों को

उस पेड़ से

अलग कर दिया मैंने…

हरे पेड़ से लिपटे हो कर भी

वो सूखे जा रही थी

और इसी कुंठा में

उस पेड़ को ही

कीट बन खाए

जा रही थी

वो पेड़ जो उस टहनी को

जीवत रखने में

अपना अस्तित्व खोये

जा रहा था

ऊपर से खुश दिखता था

पर अन्दर उसे कुछ

होए जा रहा था

टहनी उस पेड़ की मनोदशा

को कभी समझ न पायी

अपनी चिंता में ही जीती रही

खुद कभी पेड़ के

काम न आ पाई

पेड़ कद में बड़ा होकर भी

स्वभाव से झुका रहता था

टहनी को नया जीवन

देने का निरंतर

प्रयास करता रहता था

एक दिन पेड़ अपनी जडें

देख घबरा गया

तब उसे ये मालूम चला के

उसका कोई अपना ही

उसे कीट बन के

खा गया

उसे टहनी के किये पे

भरोसा न हुआ

उसने झट पूछा टहनी से

पर टहनी को

ज़रा भी शर्म का

एहसास न हुआ

वो अपने सूखने का

दायित्व पेड़ पर

ठहरा रही थी

चोरी कर के भी

सीनाजोरी किये जा रही थी

पेड़ को घाव गहरा लगा था

जिस से वो छटपटा रहा था

स्वभाववश

टहनी को माफ़ कर

उसे फिर एक परिवार मानने

का मन बना रहा था

मुझसे ये देखा न गया

मैंने झट पेड़ को

ये बात समझाई

की टहनी कभी तुम्हारी

उदारता समझ न पाई

और अपनी चतुराई

के चलते खुद अपने

पैरों पर कुल्हाड़ी

मार आयी

बहुत अच्छा होता है

ऐसी टहनियों को

वख्त रहते छांटते रहना

फिर कभी मृत टहनियों

को जीवन देने की लालसा

में दर्द मोल न लेना

मेरी ये बात सुन पेड़

थोडा संभल गया

कुछ मुरझाया था

ज़रूर पर

ये सबक उसके दीमाग

में हमेशा के लिए

घर कर गया

उसकी हामी ले कर

पेड़ को

उन मृत टहनियों से

मुक्त कर दिया मैंने…

आज उन मृत टहनियों को

पेड़ से अलग कर

दिया मैंने ….

अर्चना की रचना “सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

मेरे लफ्ज़

मोहलत

कविता कहना छोड़ा क्यों ?

कहाँ है हमारी संवेदना

7 Comments

  1. Abhishek kumar - May 15, 2020, 4:01 pm

    Good

  2. Pragya Shukla - May 15, 2020, 4:04 pm

    👌👌

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - May 15, 2020, 4:08 pm

    वाह बहुत सुंदर

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - May 15, 2020, 8:34 pm

    Nice

  5. Dhruv kumar - May 16, 2020, 4:21 pm

    Nyc

  6. महेश गुप्ता जौनपुरी - May 16, 2020, 6:15 pm

    वाह बहुत सुंदर रचना

  7. Anu Somayajula - May 17, 2020, 3:52 pm

    सुंदर अभिव्यक्ति

Leave a Reply