मोर मन के परेवना

मोर मनके परेवना
★★★★★★★

कोयली कस कुहकत जीवरा के मैना न |
महकत अमरैय्या गोंदा तय फूले जोहि ||

मोर मन म बसे हिरदे के परेवना ओ |
संगी घलो हर झूमत नजरे नजर म न ||

लाली कस परसा दिखत रुपे ह तोरे ओ |
दिखत रिकबिक घलो टिकली सिंगारे ह ||

तोरेच आगोरा म जीवरा ह संगवारी न |
कलपत हिरदे हावे रतिहा आगोरा ओ ||

नइ मिले थोड़कुन आरो ह तोरेच जोहि |
मन मे पीरा घलो मन कुमलाये भारी न ||

तिहि मोर परेवना अस सुवा तय मोर घलो |
आसा मोर मनके घलो हिरदे के जीवरा ओ ||

दगा झन दे मोला बगिया के गोंदा ओ |
पीरा हिरदे म हावे घलो मन ह भारी न ||

तेहर तो जल्दी आजा मोर तय परेवना ओ |
तोरेच आगोरा म हिरदे हर जुड़ावत हावे ||
योगेश ध्रुव”भीम”

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

नज़र ..

प्रेम  होता  दिलों  से  है फंसती  नज़र , एक तुम्हारी नज़र , एक हमारी नज़र, जब तुम आई नज़र , जब मैं आया नज़र, फिर…

Responses

New Report

Close